News / Events

२४ साल में नहीं हुआ वो २४ घंटे में होगा।

Tue, Feb 28th, 2017
क्या आपको लगता है कोई भी सरकार २०१७ के इलेक्शन बाद किसान को ४०००/- प्रति quintol का दाम दे पायेगी...?वर्ष १९६० में गेहूँ का दाम ४२ रुपये व सोने का दाम १०७/- प्रति तोला था..आज ५६ साल बाद जहाँ सोना ३००००/- पर तोला से ज़्यादा है गेहूँ १५५०/- प्रति quintol है..अर्थात सोने के दाम मै ४०० गुना से ज़्यादा बड़ोतरि हुई वही गेहूँ ४० गुना भी नहीं बड़ा..कर्मचारियों की तनखवाह ५०० गुना से ज़्यादा बड़ गए..अगर इस महँगायी के अनुपात में देखें तो गेहूँ ११८००/- पर quintol होना चाहिए...क्या महँगायी सिर्फ़ कर्मचारियों व सोने के लिये बड़ती है???लोकदल का वादा गेहूँ /धान का दाम ४०००/- पर क्विंटल व गन्ना ५००/- पर क्विंटल मात्र २४ घण्टे में कर के दिखाएगा...किसान को हक़ चाहिये ख़ैरात नहीं..परिवर्तन २०१७....