News / Events

परिवर्तन 2017 के साथ जुड़िये, उखाड़ फेखिये सत्ता के दलालों को, बनाइये अपनी किसान सरकार।।

Thu, Dec 15th, 2016
उत्तर प्रदेश की बदकिस्मती है कि उपजाऊ जमीन होने के बावजूद भी किसान को आत्महत्या करनी पड़ती है।
लेकिन बस! अब और नही।।
परिवर्तन 2017 के साथ जुड़िये,
उखाड़ फेखिये सत्ता के दलालों को,
बनाइये अपनी किसान सरकार।।

चौधरी चरण सिंह जी के सपनो को बेचते उनके तथाकथित उत्तराधिकारी!!
सत्ता के लोभ ने चौधरी साहब जैसे महान नेता के विचारों को भुला कर सिर्फ वोटो के लिए राजनीति करने वाले उनके तथाकथित उत्तराधिकारी आज भी चौधरी साहब के नाम को बेच कर सिर्फ वोट पाना चाह रहे है, जिसके लिए पहले तो सभी ने लोकदल को तोड़कर अपने अपने दल बनालिये, और आज अपनी नावों को डूबता देख एक ही जहाज़ में सफर करने की तैयारी में है।
लेकिन याद रखे जो लोग इतिहास को भुलाने की कोशिश करते है इतिहास उनको ही भुला देता है।
सालो चौधरी अजित सिंह जी ने असली लोकदल के चिन्ह "हल जोतते किसान" को पाने के लिए अनेको हथकंडे अपनाये लेकिन चुनाव आयोग ने अंत में फैसला हमारे पक्ष में सुनाते हुए अजित सिंह जी के ऊपर टिप्पडी की कि आप उनके
पुत्र होने के नाते उनकी जायजाद के वारिस तो हो सकते है लेकिन उनके राजनैतिक वारिस नही, और इसी के साथ चुनाव आयोग ने चौधरी साहब की लोकदल का नाम और चिन्ह हमे दिया था। बाद में चौधरी अजित सिंह ने राष्ट्रीय लोकदल नामक पार्टी का गठन किया था।
चौधरी चरण सिंह जी की विरासत आज भी हमने संभाली हुई है, उनके विचारों को जिन्दा बिना किसी निस्वार्थ भाव के हमने किया हुआ है। हम पर ऊँगली उठाने वाले लोग जरा पूछे अजित सिंह जी से की 5 राज्यो में सरकार बनाने वाली लोकदल कैसे उन्होंने 2 जिलो में लाकर समेट दी।
पूर्वी उत्तर प्रदेश से लेकर पश्चिमी उत्तर प्रदेश तक हम अपने दम पर लोकदल को जिन्दा रखे हुए है और आगे भी रखेंगे।।

जय लोकदल
जुड़े लोकदल से, बने हिस्सा इतिहास का।।